/* */


मंगलवार, 26 मार्च 2013

"छुट्टी अपनी तो आज ही होली है" होली है . . .

आपको सपरिवार होली की रंग भरी शुभकामनायें . . .


होली के दिन ये क्या ठिठोली है

छुट्टी अपनी तो आज ही होली है

लाल गुलाल सी लागे तेरी चोली है

हरे-नीले-गुलाबी रंगों में रंगोली है

छुट्टी अपनी तो आज ही होली है

गीतों में रंग चढ़ा संगीत में भी होली है

सात रंगों से भरी मेरी हमजोली है

छुट्टी अपनी तो आज ही होली है

रंगों में सराबोर सारे जग में होली है

दिल में उमंग जुबाँ पे सतरंगी बोली है

छुट्टी अपनी तो आज ही होली है

लोगो में उमंग चेहरे रंगीन सबकी मस्त टोली है

सबकी बस प्यार भरी बोली है

छुट्टी अपनी तो आज ही होली है

चूम बुढ़िया को बूढ़ा यूँ बोला-

'आज होली है, आज होली है'।

होली है  होली है  होली  है  . . .

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

लिखिए अपनी भाषा में